भारत की डगमगाती अर्थ विवस्ता को लेकर, पूर्व नौसेना प्रमुख का बड़ा बयान

दिल्ली: भारतीय सेना के पूर्व नौसेना प्रमुख अरुण प्रकाश ने यहां एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि जहां चीन आज वैज्ञानिक क्षेत्र में दिन व दिन तरक्की कर रहा है। और हम मंदिर मस्जि’द के मसले पर उलझे हुए हैं। इससे समय का काफी दुरुपयो’ग होगा. और अंत में हमें कुछ हाथ नहीं लगने वाला उन्होंने कहा कि हमारी ही तरह जनसं’ख्या के घन’त्व वाले पड़ोसी देश चीन ने आर्टिफिशल इंटेलि’जन्स रोबोटि’क्स जैसे क्षेत्रों में काफी प्रगति कर ली है।

हमारा देश की आजादी के बाद से ही हम तरह- तरह के भेदभा’व और विषमताओं से जूझते रहे। कभी धार्मि’क कभी भाशागत और कभी जातिगत संघ’र्ष हुए जिससे हमारी काफी उर्जा खर्च हुई लेकिन हमें क्या मिला कुछ नहीं।

Image Source: Google

हालांकि पूर्व नौसेना प्रमुख अरुण प्रकाश ने उम्मीद जताई कि आर्टिक’ल 370 के उन्मूलन प्रावधान और जम्मू-कश्मीर की स्थिति में बदलाव से शांति आएगी और क्षेत्र में एकीकरण और आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलेगा। सरकार के इस कदम का अरुण प्रकाश ने स्वागत किया।

आपको बता दें नई दिल्ली में प्रेम भाटिया मेमोरियल लेक्चर देते हुए एडमिरल अरुण प्रकाश सेवानिवृत्त ने कहा, एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपने पूरे अस्ति’त्व के लिए हमने इन वि’चित्रता’ओं को देखा और इनसे पीड़ि’त हैं। भाषा’ई धार्मि’क जाति आदि ये संघ’र्ष हमारे स्वतं’त्र अस्ति’त्व में जारी रहे हैं।

प्रकाश ने कहा की हम आगे बढ़ने जी वजाये पीछे खिसक’ते जा रहे है। हमें क्या करने की ज़रूरत है और उनका दोहन करने के बजाय उन्हें तंज़ करना है। चीन आर्टिफीसि’यल इंटेलिएजेन्स रोबोटि’क्स और मशीन लर्निं’ग और उस सब के बारे में बात कर रहा है। और अगर हम मंदि’रों और मस्जि’दों और इतने पर बात करने जा रहे हैं, तो जाहिर है हम समय बर्बा’द करने जा रहे हैं।

साभार: #indiatoday