चीन के ऐसे गुप्त ‘क़ैदखाने’ जहां पर बंद हैं लाखों मुसलमान, बीबीसी की टीम ने किया खुलासा

Chiniदुनिया भर की खबरों की जानकारी देने वाली bbc dot com के एक वीडियो ने चीन के मुसलमानों की हालात पर एक रिपोर्ट पेश की है इस रिपोर्ट को देखने और पढ़ने सुनने के बाद आपके पैरों तले से जमीन खिसक जाएगी. चीन में वहां के मुसलमानों को लेकर क्या हालात हैं यह दुनिया भर में अब किसी से छिपा नहीं है, अभी हाल ही में उड़ती उड़ती खबरें आई थी की चीन में कई मस्जिदों को तोड़ा गया है और सेटेलाइट की तस्वीरों के द्वारा यह खुलासा हुआ था.

चीन से ज़्यादातर कोई भी जानकारी बाहर नहीं जा पाती, इसका कारण यह है कि वहां की पापुलेशन को हमारे देश की तरह सोशल मीडिया या इंटरनेट पर इतनी आजादी नहीं है, वहां की सरकार द्वारा सोशल मीडिया के इस्तेमाल को लेकर सख्त नियम और कायदे कानून बनाये हैं.

बीबीसी के द्वारा दिखाए गए इस वीडियो में एक मुसलमान महिला बताती हैं कि उन्हें सर व्हाट्सएप चलाते हुए पकड़ लिया गया था, इसके बाद उन्हें पूरे 1 साल तक हर तरह की तमाम यात’नाएं झेलना पड़ी थी. लेकिन अब वह चीन छोड़ चुकी है, और वे बीते हुए वक़्त को याद करते हुए सिहर जाती हैं.

बीबीसी के इस वीडियो में बीबीसी की टीम ने ऐसी जगहों का खुलासा किया है जिसमें कैदखाने जैसी जगह हैं. वहां कोई भी बाहरी व्यक्ती बिना इजाजत अन्दर नहीं जा सकता और न ही अन्दर से कोई भी बाहर की दुनिया में बिना उनकी मर्जी के पैर रख सकता.

जब बीबीसी के रिपोर्टरों ने अपने स्तर से कुछ बाहरी और अन्दर के लोगों से पता लगाया की वहां लाखों की संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग बंद हैं. उन्हें अपने धर्म से परे चीनी भाषा सिखाई जा रही है, और इसके अलावा उन्हें अपने धर्म को छोड़ उसके अलावा और भी कई चीजें करने को दी जा रही हैं.

जब उन्होंने वहां के अधिकारियों से इस बारे में बात की तो उन्होंने BBC की टीम को कहा कि क्या यह आप को जेल जैसा लगता है? हम यहां इनको इसलिए लेकर आए हैं कि इनमें से कोई भी इससे पहले किसी भी तरह का अ@पराध कर दे, उसको सुधार जा सकते.

मतलब यह है कि वहां की सरकार को अगर किसी पर जरा सा भी शक होता है, या फिर उनकी विचारधारा को लेकर जरा सा भी वहम है तो वो लोग उसको अपनी सुरक्षा में ले लेते हैं. इसके बाद फिर उसका ब्रेन वश करने का काम शुरू होता है.

इसके अलावा और भी कई ऐसे खुलासे हैं जो वीडियो में आपको देखने को मिलेंगे, वीडियो में आपको देखने को मिलेगा कि वहां रह रहे लोग भले ही उन्हें आर्ट ड्रॉइंग करने की आजादी हो खेलने की आजादी हो लेकिन वह बिना इजाजत के वहां से कहीं नहीं जा सकते.

इनको रोकने के लिए वहां कड़ी सुरक्षा का इंतजाम है, सीसीटीवी कैमरे और तार फेंसिंग से उस एरिया को लैस किया गया है. फिलहाल बीबीसी की टीम ने इस रिपोर्ट के जरिए काफी अच्छे खुलासे किए हैं. और चीन के मुसलमानों के हालातों पर रोशनी डाली है. इस वीडियो को आपको जरूर देखना चाहिए.