इस मुस्लिम देश में 30 साल बाद तानाशाही खात्मा, सेना ने राष्ट्रपति को लिया हिरासत में

एक बार फिर से तख्तापलट का मामला सामने आया है. इस बार मुस्लिम देश सूडान में सेना ने तख्तापलट कर दिया है. सूडान की सेना ने राष्ट्रपति उमर अल बशीर को 30 सालों के शासन के बाद इस्तीफा देने पर जबरन मजबूर कर दिया. सूडान के रक्षा मंत्री के मुताबिक सेना ने निरकुंश राष्ट्रपति को गिरफ्तार कर लिया है.

सरकारी टीवी पर रक्षा मंत्री ने अपना संदेश जारी करते हुए कहा कि अगले 3 महीने तक देश में आपातकाल लागू किया जाता हैं. बशीर 1989 से सूडान पर शासन कर रहे थे उनके खिलाफ कई महीनों से विरोध प्रदर्शन चल रहा था.

इसी बीच रक्षा मंत्री ने बताया कि उन्हें शासन से हटा कर गिरफ्तार कर लिया गया है. फ़िलहाल उन्हें सुरक्षित स्थान पर रखा गया हैं. इसके साथ ही सूडान के संविधान को निलंबित किया जाता हैं. वहीं अगली सूचना तक सीमा पार से किसी भी हवाई यात्रा को 24 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है.

देश को संबोधित करते हुए इब्ने औफ ने कहा कि मैं रक्षा मंत्री के तौर पर सरकार गिरने की घोषणा करता हूँ. सरकार के प्रमुख को हिरासत में लेकर एक सुरक्षित स्थान पर रखा गया है. उन्होंने कहा कि बशीर की जगह अंतरिम सैन्य परिषद 2 साल के लिए देश पर शासन करेगी.

उन्होंने आगे बताया कि सूडान के 2005 के संविधान को निलंबित करने का फैसला मैंने लिया हैं. फ़िलहाल हम देश में आपातकाल की घोषणा करते हैं और नए आदेश तक देश की सीमाएं एवं हवाई क्षेत्र को बंद करने का हुक्म देते हैं.

इब्ने औफ ने कहा कि सैन्य परिषद ने देश में संघर्ष विराम का ऐलान करती हैं. जो युद्धग्रस्त दारफर, ब्लू नील और दक्षिण कुर्दफान में भी लागू किया जाएगा यहां पर पिछली बशीर सरकार लंबे वक्त से जातीय विद्रोहियों से लड़ रही है. बशीर 1989 में हुए तख्तापलट के बाद सत्ता में आए थे.

आपको बता दें कि वह अफ्रीका में सबसे लंबे वक्त तक राष्ट्रपति रहे नेताओं में शामिल हैं. वह नरसंहार और युद्ध अपराध के लिए अंतरराष्ट्रीय आपराधिक अदालत में वांछित हैं.