मस्जिद में शही’द नमाज़ियों की याद में 59 देशो के प्रधानमंत्री और प्रतिनिधि आज पहुँच रहे हैं न्यूज़ीलैंड, प्रधानमंत्री में किया ऐलान

न्यूज़ीलैंड के शहर क्राइस्टचर्च में एक आतं’की द्वारा दो मस्जिदों पर किये गए हम’ले को दुनिया भर में गंभीरता से लिया जा रहा हैं. दुनिया भर में इस हमले की कड़ी शब्दों में आलोचना की जा रही हैं. इस हमले में मुस्लिमों को निशाना बनाया गया. हमलावर ने शहर की दो मस्जिदों पर हम’ले किये. इस हमले में 50 नमाजी शहीद हो गए जबकि 49 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे.

इस हमले के बाद पूरी दुनिया की निगाहें न्यूज़ीलैंड सरकार के अगले कदम की तरफ लगी हुई थी. जिसके बाद देश की प्रधानमंत्री जैसिंडा अडर्न ने जो कड़े कदम उठाए और जो कुछ कर दिखाया है वो पूरी दुनिया के लिये मिसाल बन गया है.

प्रधानमंत्री जैसिंडा अडर्न ने मस्जिदों में शहीद हुए नमाज़ियों की याद में पूरी दुनिया के अलग अलग देशों को शहीदों को याद करने और उन्हें श्रद्भजंलि देने के लिये अपने देश में बुलाया गया है. जिसमें लगभग 59 देशो के प्रतिनिधि न्यूज़ीलैंड पहुंच रहे हैं.

इसे लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि हां, यह एक ऐसी घटना है जिसने देश की बुनियादों को हिलाकर रख दिया है. इस हमले का प्रभाव हमारे देश पर पड़ने की कोशिश होगी. इस अवसर पर हमारी जिम्मेदारी है कि हम नफरतों को मिटाकर एक साथ प्रेम आपसी भाईचारे के साथ रहें.

पीएम ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया से एक महत्वपूर्ण प्रतिनिधिमंडल कल इस श्रद्भजंलि प्रोग्राम में शामिल होने के लिए आ रहा हैं. जिसमें पीएम स्कॉट मॉरिसन, गवर्नर-जनरल सर पीटर कॉसग्रोव और विपक्षी नेता बिल शॉर्टेन भी शामिल हैं. उन्होंने कहा कि वह 15 मार्च को हुए आतं’कवादी हमले के बाद से मॉरिसन के संपर्क में है.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि न्यूज़ीलैंड ऑस्ट्रेलिया के समर्थन के लिए अविश्वसनीय रूप से आभारी है. जिसमें हमारे देश की सबसे बड़ी पुलिस जांच में मदद करने के लिए 85 पुलिस कर्मचारियों और पीड़ित पहचान कर्मचारियों के प्रावधान शामिल हैं. अर्डर्न और मॉरिसन कल कार्यक्रम के बाद मॉरिसन और शॉर्टन दोनों के साथ बातचीत करेंगे.