शिवराज में दाढ़ी रखना हुआ ख़’तरना’क, अस्पताल जा रहे वकील को पुलिस ने ‘मुस्लिम’ समझकर बे’रहमी से पी’टा

मध्यप्रदेश से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. इस मामले के सामने आने के बाद से ही मध्यप्रदेश पुलिस पर सवाल उठ रहे है कि क्या वह दाढ़ी से मुसलिमों की पहचान करके उनकी पि’टा’ई करती हैं? इस तरह के आरोप एमपी पुलिस पर एक वकील द्वारा लगाए गए है. वकील का आरोप है कि मध्यप्रदेश पुलिस ने उन्हें सिर्फ इसलिए पि’टा’ई की क्योंकि उन्हें लगा कि वह मुस्लिम हैं.

द वायर के अनुसार यह मामला मध्यप्रदेश के बेतुल जिले का है. यहां के एक वकील दीपक बुंदेल ने कथित तौर पर पुलिस पर उनकी पि’टा’ई करने के आरोप में मामला दर्ज कराया है. दीपक ने द वायर को बताया कि 23 मार्च को पुलिस ने उनकी इलाज के लिए हॉस्पिटल जाते समय पि’टा’ई कर दी थी.

दीपक बुंदेले कहते है कि उस समय देश भर में लॉकडाउन की घोषणा नहीं हुई थी लेकिन जिले में धारा 144 लागू थी. मैं बल्ड प्रेशर और शुगर का मरीज हूँ, मुझे ठीक नहीं लग रहा था इसलिए मैं कुछ दवाइयां लेने हॉस्पिटल गया. लेकिन पुलिस ने मुझे बीच में ही रोक लिया और मैंने उन्हें स्थिति बतानी चाही तो एक पुलिस कर्मी ने बिना कुछ सुने मुझे तमा’चा मा’रा.

वह आगे बताते है कि जब मैंने पुलिसकर्मियों से संवैधानिक दायरे में कार्रवाई का सामना करने बात बोली तो वह आग बबूला हो गए. इसके बाद वह मुझे व संविधान को गा’लि’याँ देने लगे और मुझे पी’टना चालू कर दिया. जब मैंने उन्हें कहा कि मैं एक वकील हूँ और इस मामले को ऐसे नहीं छोड़ूँगा तो यह सुनकर वह रूक गए.

इस दौरान वह काफी घायल हो गए थे उन्होंने हॉस्पिटल में इलाज कराया और लीगल मेडिकल रिपोर्ट बनवाई. इसके बाद उन्होंने इस मामले की शिकायत एसपी डीएस भदौरिया और राज्य के डीजीपी, मुख्य मंत्री, राज्य के मानवाधिकार आयोग, हाईकोर्ट के मुख्य जज और सरकार के उच्चाधिकारियों को भेजी.

दीपक ने बताया कि इसके बाद से ही पुलिस लगातार उन पर केस वापस लेने के लिए दबाव बना रही है. दीपक के अनुसार 17 मई को कुछ पुलिस अधिकारी उनका बयान लेने घर पर आए थे. उन्होंने इसी दौरान कथित रूप से पुलिस कर्मियों के साथ की गई बातचीत का ऑडियो रिकॉर्ड किया. जिसे द वायर दावा जारी किया गया है.

दीपक के दावे के अनुसार इस ऑडियो में कथित तौर पर पुलिस अधिकारी को कहते हुए सुना जा रहा है कि कुछ पुलिसकर्मियों ने उनकी दाढ़ी की वजह से मुझे मुस्लिम समझ कर ग़लती से उन पर हमला कर दिया था. कथित तौर पर पुलिस अधिकारियों कह रहे है कि हम वास्तव में शर्मिंदा हैं. अगर आप कहे तो हम उन से व्यक्तिगत रूप से माफ़ी मँगवा सकते हैं.

ऑडियो में सुना जा रहा है कि वे सब भी बहुत श’र्मिंदा हैं कि उन्होंने आपकी पहचाने बिना ही अपने एक हिंदू भाई के साथ ऐसा किया. उन्होंने कहा कि आपके खिलाफ हम कोई दुश्मनी नहीं रखते हैं. बल्कि जब भी कोई हिंदू-मुस्लिम दं’गे होते है तो पुलिस सिर्फ हिंदुओं का साथ देती है. आपके साथ जो भी हुआ वह सिर्फ भूलवश हुआ. आपकी लंबी दाढ़ी होने के कारण उस पोलिस कर्मी ने आपको मुस्लिम समझ लिया इसलिए आपको पि’टा.